नज़ारे हो Nazaare Ho Lyrics IN HINDI/INGLISH – Karthik Rao

Nazaare-Ho lyrics


SONG DETAILS

Song Title: Nazaare Ho
Singer: Karthik Rao
Lyrics: Durgesh Singh
Music: Karthik Rao
Music Label: Dice Media

Nazaare Ho Lyrics IN inglish

Ho dasturon ko dhata bata ke
Khud ke mann ke pata bataake
Window seat kari hai offer
Qismat ne phir paas betha ke

 

Ho nazaare ho, nazaare ho..
Ho nazaare ho, nazaare ho

Uddne ki chahat thhi kacchi
Par girne ki fitrat thi sacchi
Khone ke mausam mein yaaron
Kuch paane ki aadat hai acchi

Ho neend ko aankh di humne
Ummeedon ka saath nibhake
Window seat kari hai offer
Qismat ne phir paas betha ke

Ho nazaare ho, nazaare ho..
Ho nazaare ho, nazaare ho

Tune maine sabne
Dekhe thhe aune paune
Aage hoga kya pata
Log baag sab ek raag hai
Apni hi dhun tu suna

Ho sakht chhaton pe ugaa hai bargad
Dekho sabkuch tod taadke
Window seat kari hai offer
Qismat ne phir paas betha ke

Ho nazaare ho, nazaare ho..
Ho nazaare ho, nazaare ho

Kuch aadha hoga adhoora hoga
Jo apne mann ka woh poora hoga
Param ke paani mein bhatkati naavon ka
Koyi na koyi kinaara hoga

Ho jakdi muthhi khol hawa mein
Baat banegi baat baat mein
Soch saach ke kyun hai jeena
Kyun jeena hai inch naap ke

Ho nazaare ho, nazaare ho..
Ho nazaare ho, nazaare ho

Ho dasturon ko dhata bata ke
Khud ke mann ke pata bataake
Window seat kari hai offer
Qismat ne phir paas betha ke

Ho nazaare ho, nazaare ho..

Nazaare Ho Lyrics IN HINDI

हो दस्तूरों को धता बता के
खुद के मॅन के पता बताके
विंडो सीट करी है ऑफर
क़िस्मत ने फिर पास बेता के

 

हो नज़ारे हो, नज़ारे हो..
हो नज़ारे हो, नज़ारे हो

उड़दने की चाहत तही कक़ची
पर गिरने की फ़ितरत थी सॅकी
खोने के मौसम में यारों
कुछ पाने की आदत है आक्ची

हो नींद को आँख दी हुँने
उम्मीदों का साथ निभके
विंडो सीट करी है ऑफर
क़िस्मत ने फिर पास बेता के

हो नज़ारे हो, नज़ारे हो..
हो नज़ारे हो, नज़ारे हो

तूने मैने सबने
देखे तहे औने पौने
आयेज होगा क्या पता
लोग बाग सब एक राग है
अपनी ही धुन तू सुना

हो सख़्त च्चातों पे उगा है बरगद
देखो सबकुछ तोड़ ताडके
विंडो सीट करी है ऑफर
क़िस्मत ने फिर पास बेता के

हो नज़ारे हो, नज़ारे हो..
हो नज़ारे हो, नज़ारे हो

कुछ आधा होगा अधूरा होगा
जो अपने मॅन का वो पूरा होगा
परम के पानी में भटकती नावों का
कोई ना कोई किनारा होगा

हो जकड़ी मुट्ही खोल हवा में
बात बनेगी बात बात में
सोच साच के क्यूँ है जीना
क्यूँ जीना है इंच नाप के

हो नज़ारे हो, नज़ारे हो..
हो नज़ारे हो, नज़ारे हो

हो दस्तूरों को धता बता के
खुद के मॅन के पता बताके
विंडो सीट करी है ऑफर
क़िस्मत ने फिर पास बेता के

हो नज़ारे हो, नज़ारे हो..

Leave a Comment